अध्याय 4: गतिमान आवेश और चुम्बकत्त्व

(1) एकसमान चुम्बकीय क्षेत्र उत्पन्न होता है –

  • सीधे धारावाही तार से
  • वृत्तीय लूप में धारा के प्रवाह से उसके केन्द्र पर
  • वृत्तीय लूप में धारा के प्रवाह से उसकी अक्ष पर
  • परिनालिका में धारा के प्रवाह से उसके भीतर
उत्तर देखे
परिनालिका में धारा के प्रवाह से उसके भीतर

(2) एक गैलवेनोमीटर को वोल्टमीटर में परिवर्तित किया जा सकता है –

  • समानांतर में उच्च प्रतिरोध
  • श्रेणी क्रम में उच्च प्रतिरोध
  • श्रेणी क्रम में निम्न प्रतिरोध
  • समानांतर क्रम में उच्च प्रतिरोध
उत्तर देखे
श्रेणी क्रम में उच्च प्रतिरोध

(3) चुम्बकीय बल क्षेत्र का S.I. मात्रक होता है –

  • वेबर
  • टेसला
  • गाँस
  • इनमें से कोई नहीं
उत्तर देखे
टेसला

(4) एक आदर्श वोल्टमीटर का प्रतिरोध होता है –

  • कम
  • धिक
  • अनंत
  • शून्य
उत्तर देखे
शून्य

(5) एक गैलवेनोमीटर को आमीटर में बदलने के लिए जोड़ा जाता है –

  • समानांतर में निम्न प्रतिरोध
  • श्रेणी में उच्च प्रतिरोध
  • श्रेणी में निम्न प्रतिरोध
  • समानांतर में उच्च प्रतिरोध
उत्तर देखे
समानांतर में निम्न प्रतिरोध

(6) लॉरेन्ज बल की दिशा ज्ञात करने का नियम है –

  • फ्लेमिंग का बाएँ हाथ का नियम
  • फ्लेमिंग का दाएँ हाथ का नियम
  • मैक्सवेल का दाएँ हाथ का कार्क-स्क्रू नियम
  • ऐम्पियर का तैरने का नियम
उत्तर देखे
फ्लेमिंग का बाएँ हाथ का नियम

(7) त्वरित आवेश उत्पन्न करती है –

  • अल्फा किरणें
  • गामा किरणें
  • बीटा किरणें
  • विद्युत चुम्बकीय तरंग
उत्तर देखे
विद्युत चुम्बकीय तरंग

(8) एक आदर्श आमीटर का प्रतिरोध होता है-

  • कम
  • अधिक
  • अनंत
  • शून्य
उत्तर देखे
शून्य

(9) एक वोल्टमीटर को आमीटर में बदला जा सकता है –

  • इसके समानांतर में उच्च प्रतिरोध को जोड़कर
  • इसके श्रेणी क्रम में उच्च प्रतिरोध को जोडकर
  • इसके समानांतर क्रम में निम्न प्रतिरोध को जोडकर
  • इसके श्रेणी क्रम में निम्न प्रतिरोध को जोड़कर
उत्तर देखे
इसके समानांतर क्रम में निम्न प्रतिरोध को जोडकर

(10) जब किसी आम्मापी को शंट किया जाता है तो इसकी सीमा क्षेत्र –

  • बढ़ती है
  • घटती है
  • स्थिर होती है
  • इनमें से कोई नहीं
उत्तर देखे
बढ़ती है

Leave a Comment