Chapter-8: कवितावली, लक्ष्मण-मूर्च्छा और राम का विलाप

1 . कविता में अच्छे बुरे कार्य का आधार क्या बतलाया गया है ?

  •  धन की आग
  • पेट की आग
  • a.b दोनों
  • इनमें से कोई नहीं
उत्तर देखे
पेट की आग

2. पेट की आग शांत करने का क्या उपाय तुलसी दास ने बताए ।

  •  राम भक्ति
  • कृष्ण भक्ति
  • शिव भक्ति
  •   हनुमान भक्ति
उत्तर देखे
राम भक्ति

3. कविता में वर्णित “ किसबी ” का अर्थ क्या है ?

  •  नौकरी
  • रोजगार
  • धंधा
  •  गुप्तचर
उत्तर देखे
धंधा

4. कवितावली की भाषा कैसी है ?

  •  सरल
  • सहज एवं प्रवाहमयी
  •  a , b दोनों
  • इनमें से कोई नहीं
उत्तर देखे
a , b दोनों

5. आकर्षक में कौन – सा अलंकार प्रयुक्त हुआ है ?

  • रूपक
  • अनुप्रास
  • भमक
  • उत्प्रेक्षा
उत्तर देखे
रूपक

6. कविता में ” सिद्धमान ” का अर्थ क्या है ?

  • गरीब
  • सुखी
  • दुःखी
  • अमीर
उत्तर देखे
दुःखी

7. प्रस्तुत कविता में ” दारिद ” का अर्थ क्या है ? ”

  • लोभी
  • सहृदय
  • ज्ञानी
  • निर्दय
उत्तर देखे
निर्दय

8. प्रस्तुत कविता में तुलसी दास ने किस दशा का वर्णन किया है ?

  • आर्थिक
  • सामाजिक
  • राजनीतिक
  • इनमें से कोई नहीं
उत्तर देखे
सामाजिक

9. कवितावली कैसी गुण सम्पन्न भाषा है ?

  •   भक्ति रस
  • प्रसाद गुण
  • a , b , दोनों
  • इनमें से कोई नहीं
उत्तर देखे
a , b , दोनों

10. कविता में वर्णित ‘ कोऊ ‘ का अर्थ क्या है ?

  •  कोई भी
  • कहीं भी
  • और भी
  • सोना
उत्तर देखे
कोई भी

11. दरिद्रता की तुलना किससे की गई है ?

  •  रावण से
  • गरीब से
  • सुदामा से
  • कुंभकरण से
उत्तर देखे
रावण से

12. तुलसीदास स्वयं को क्या मानते हैं ?

  • लेखक
  •  कवि
  • श्री राम का सेवक
  • सामान्य पुरुष
उत्तर देखे
श्री राम का सेवक

13. कौन – सी अग्नि समुद्र में पाई जाने वाली अग्नि से भी अधिक तीव्र होती है ?

  •  जंगल की अग्नि
  • पेट की अग्नि
  • पाप की अग्नि
  • सभी
उत्तर देखे
पेट की अग्नि

14 , तुलसीदास ने संसार का सबसे बड़ा अभिशाप किसे माना है ?

  •  पापी पुरुष को
  • आर्थिक दरिद्रता को
  • दोनों को
  • कोई नहीं
उत्तर देखे
आर्थिक दरिद्रता को

15. सही अर्थ सुमेलित नहीं है

  •  लोकहूँ विलोकत – लोक में दिखाई देता है
  • वेदहूँ पुरान कही – वेद पुराण कहते हैं संकट सब पर है
  • सांकरे सबै पै
  •  उपरोक्त सभी सुमेलित हैं
उत्तर देखे
वेदहूँ पुरान कही – वेद पुराण कहते हैं संकट सब पर है

16 . प्रस्तुत कविता किस ग्रन्थ से ली गई है ?

  •  रामायण
  • महाभारत
  •  गीता
  •  वेद
उत्तर देखे
रामायण

17. प्रस्तुत कविता तुलसीदास की कैसी रचना है ?

  • कविता
  •  दोहा
  • सवैया
  • काव्य
उत्तर देखे
दोहा

18. लक्ष्मण के लिए कौन – सी बुटी की आवश्यकता थी ?

  •  संजीवनी
  •  रक्तरोधिनि
  • जीवन दायिनी
  •  इनमें से कोई नहीं
उत्तर देखे
संजीवनी

19.  कुभ कर्ण ने दु : खी होकर रावण को क्या कहकर संबोधित किया ?

  • हे प्रिय भाई
  • हे भ्राता
  •  हे मुर्ख
  •  हे ज्ञानी
उत्तर देखे
हे मुर्ख

20. प्रस्तुत कविता की काव्य शैली कैसी है ?

  •  ब्रज
  • अवधि
  • खरोष्ठी
  • खड़ी बोली
उत्तर देखे
अवधि

21. भरत से हनुमान कहाँ शीघ्र प्रस्थान करने हेतु कहते हैं

  •  अयोध्या
  •  काशी
  • लंका
  • मथुरा
उत्तर देखे
लंका

22. प्रस्तुत कविता में वर्णित ‘ पवन कुमार ‘ का क्या अर्थ है ?

  • राम
  •  हनुमान
  • भरत
  •  रावण
उत्तर देखे
हनुमान

23. कविता में किस छंद का निर्वाह हुआ है ?

  • दोहा
  • चौपाई
  • a , b दोनों
  •  इनमें से कोई नहीं
उत्तर देखे
a , b दोनों

24. प्रस्तुत कविता में कौन रस है ?

  •  करुण रस
  • वीर रस
  • श्रृंगार रस
  • इनमें से कोई नहीं
उत्तर देखे
करुण रस

25. कविता में वर्णित ‘ जागहु ‘ का अर्थ क्या है ?

  • सोना
  •  सोओ
  • जागी
  • निन्द में
उत्तर देखे
जागी

26. ऊहाँ  .मनतेक नहीं ओहूँ में कौन से रस का परिपाक हुआ है ?

  •  करुण रस
  • वीर रस
  • माधुर्य रस
  • शांत रस
उत्तर देखे
करुण रस

27. कविता में हनुमान भरत की किस बात से प्रभावित हुए ?

  • बल – शील
  • बाहुबल
  • राम के प्रति प्रेम
  • उपरोक्त सभी
उत्तर देखे
उपरोक्त सभी

28. रावण की बात सुनकर कुंभकरण की क्या प्रतिक्रिया हुई ?

  • कहने लगा कि जगदंबा को हर लाने के बाद भी कल्याण की अपेक्षा करता है
  • बिलखने लगा
  • धिक्कारा
  • उपरोक्त सभी
उत्तर देखे
उपरोक्त सभी

29. ऊहाँ राम ..मनतेऊ नहीं ओहू पंक्तियों में राम के किस रूप का वर्णन हुआ है ?

  •  अवतार
  •  मनुज
  •  मर्यादा पुरुषोत्तम
  • सभी
उत्तर देखे
मनुज

30. व्याकुल वानरों के बीच हनुमान का आना कवि द्वारा क्या माना गया है ?

  •  श्रृंगार रस में माधुर्य रस
  • करुण रस में वीर रस
  • वात्सल्य रस में करुण रस
  • माधुर्य रस में करूण रस
उत्तर देखे
करुण रस में वीर रस

Leave a Comment