अध्याय-4: जाती धर्म और लैंगिक मसले

1. धर्म को कभी भी राजनीति से अलग नहीं किया जा सकता यह कथन है?

  • महात्मा गांधी का
  • सुभाष चंद्र बोस का
  • जवाहरलाल नेहरू का
  • इनमें से कोई नहीं
उत्तर
महात्मा गांधी का

2. नारीवाद आंदोलन से अभिप्राय है कि –

  • वे आंदोलन जो पुरुषों को स्त्रियों के समान अधिकार दिलाने के लिए चलाए गए थे
  • वे आंदोलन जो स्त्रियों को पुरुषों के समान अधिकार दिलाने के लिए चलाए गए थे
  • वे आंदोलन जो स्त्रियों को स्त्रियों के समान अधिकार दिलाने के लिए चलाए गए थे
  • उपयुक्त सभी
उत्तर
वे आंदोलन जो स्त्रियों को पुरुषों के समान अधिकार दिलाने के लिए चलाए गए थे

3. सर्वप्रथम नारीवाद आंदोलन की शुरुआत किस देश में हुई थी ?

  • अमेरिका
  • भारत
  • चीन
  • रूस
उत्तर
अमेरिका

4. भारतीय राजनीति में जाति का कौन सा रूप दिखाई देता है?

  • सरकार के गठन में जातियों को प्रतिनिधित्व देने
  • जातिगत भावनाओं को भड़काकर वोट पाने की कोशिश
  • उम्मीदवारों का चुनाव जातियों की संख्या के हिसाब से
  • उपयुक्त सभी
उत्तर
उपयुक्त सभी

5. नारीवाद वह पुरुष या स्त्री है जो विश्वास करता है?

  • पुरुष और स्त्री के समान अधिकारों में
  • पुरुष और स्त्री के अलग-अलग अधिकारों में
  • पुरुष और स्त्री के संयुक्त अधिकारों में
  • उपयुक्त में से कोई नहीं
उत्तर
पुरुष और स्त्री के समान अधिकारों में

Leave a Comment