अध्याय-1: समकालीन विश्व में लोकतंत्र

1. इनमें से किससे लोकतंत्र के विस्तार में मदद नहीं मिलती ?

  • लोगों का संघर्ष
  • विदेशी शासन द्वारा आक्रमण
  • उपनिवेशवाद का अंत
  • लोगों की स्वतंत्रता की चाह
उत्तर देखे
विदेशी शासन द्वारा आक्रमण

2. एक ट्रेड यूनियन नेता जो 1990 के चुनाव में पोलैंड का निर्वाचित राष्ट्रपति बना

  • एनक्रूमा
  • लेकवालेश
  • आगस्तो पिनोशे
  • इनमें कोई नहीं
उत्तर देखे
लेकवालेश

3. आजीवन घाना का राष्ट्रपति कौन बन गया ?

  • लेकवालेश
  • आगस्तो पिनोशे
  • एनक्रूमा
  • इनमें कोई नहीं
उत्तर देखे
एनक्रूमा

4. पोलैंड एक देश है

  • मध्य एशियाई
  • मध्य यूरोपीय
  • उत्तर अमेरिकी
  • इनमें कोई नहीं
उत्तर देखे
मध्य यूरोपीय

5. चिले में सैनिक तख्तापलट कब हुआ ?

  • 11 सितम्बर 1973
  • 11 अक्टूबर 1992
  • 6 दिसम्बर 1992
  • इनमें कोई नहीं
उत्तर देखे
11 सितम्बर 1973

6. चिले की सोशलिस्ट पार्टी के संस्थापक कौन थे ?

  • सल्वाडोर आयेंदे
  • मिशेल बैशेले
  • लेक वालेशा
  • पिनोशे
उत्तर देखे
सल्वाडोर आयेंदे

7. सालाजार कहाँ का एक तानाशाह था ?

  • पुर्तगाल
  • फ्रांस
  • रूस
  • जर्मनी
उत्तर देखे
पुर्तगाल

8. इनमें कौन देश सबसे पहले अपने व्यस्क नागरिकों को मतदान का अधिकार दिया ?

  • रूस
  • न्यूजीलैंड
  • ब्रिटेन
  • अमेरिका
उत्तर देखे
न्यूजीलैंड

9.अफ्रीका का पहला कौन – सा देश स्वतंत्र हुआ ?

  • घाना
  • अंगोला
  • नाइजीरिया
  • लीबिया
उत्तर देखे
घाना

10. चिले में किसके द्वारा सरकार का तख्ता पलटा गया ?

  • एनकूमा
  • ऑगस्तो पिनोशे
  • लेकवालेश
  • इनमें कोई नहीं
उत्तर देखे
ऑगस्तो पिनोशे

11. एक मध्य युरोपीय देश है

  • पोलैंड
  • अफ्रीका
  • जापान
  • ब्राजील ।
उत्तर देखे
पोलैंड

12. गोल्ड कोस्ट किस देश का पुराना नाम था ?

  • घाना
  • नेपाल
  • चिली
  • पोलैंड
उत्तर देखे
घाना

13. 1980 में पोलैंड में किस पार्टी ने शासन किया ?

  • पोलिश वर्कर्स पार्टी
  • पोलिश पार्टी
  • पोलिश यूनाइटेड वर्कर्स पार्टी
  • इनमें कोई नहीं
उत्तर देखे
पोलिश यूनाइटेड वर्कर्स पार्टी

14. अमेरिका को ब्रिटेन के उपनिवेशी शासन से स्वतंत्रता कब मिली ?

  • 1789
  • 1876
  • 1776
  • 1857
उत्तर देखे
1776

15. एनक्रूमा किस देश के पहले राष्ट्रपति बने

  • घाना
  • दक्षिण अफ्रीका
  • नेपाल
  • पोलैंड
उत्तर देखे
घाना

1 thought on “अध्याय-1: समकालीन विश्व में लोकतंत्र”

Leave a Comment